Needy people will get 1000 rupees during lockdown जरूरतमंद लोगों को लॉकडाउन के दौरान 1000 रुपये

Needy people will get 1000 rupees during lockdown जरूरतमंद लोगों को लॉकडाउन के दौरान 1000 रुपये : कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए राज्य सरकार द्वारा 31 मार्च तक घोषित लॉकडाउन के दौरान रोजी-रोटी से वंचित गरीब तबके के लोगों को सहारा देने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने महत्वपूर्ण कदम उठाये हैं. गहलोत ने प्रदेश के 78 लाख सामाजिक सुरक्षा पेंशन के लाभार्थियों को 2 माह की पेंशन एक साथ तत्काल देने के निर्देश दिये हैं. इसके अलावा 36 लाख 51 हजार बीपीएल, स्टेट बीपीएल एवं अन्त्योदय योजना के लाभार्थियों, 25 लाख निर्माण श्रमिकों एवं रजिस्टर्ड स्ट्रीट वेन्डर्स जो कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना में कवर नहीं हो रहे हैं, उन्हें एक बारीय अनुग्रह राशि के तौर पर एक हजार रूपये दिये जाएंगे. ताकि उनके हाथ में नकदी पहुंचेगी और वे अपनी रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा कर सकेंगे.

गरीब परिवारों के खातों में एक एक हजार देने के लिए 310 करोड पर मंजूर:Government will give a ₹ 1000 to poor families of Rajasthan

राजस्थान में जारी लोक डाउन के दौरान रोजी-रोटी से वंचित गरीब तबके के लोगों को तात्कालिक सहायता के तौर पर एक ₹1000 देने की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की घोषणा को अमलीजामा पहनाते हुए राज्य सरकार ने जरूरतमंद परिवारों के खातों में प्रति परिवार एक ₹1000 जमा करवाने के लिए एकमुश्त 310 करोड़ की राशि उपलब्ध करा दी है. जिन परिवारों को एक बार यह सहायता के तौर पर यह राशि दी जा रही है. उनमें बीपीएल स्टेट बीपीएल अंतोदय योजना के अंतर्गत आने वाले ऐसे परिवार शामिल हैं. जिनमें किसी भी सदस्य को सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना का लाभ नहीं मिल रहा है. इसके अलावा पंजीकृत निर्माण श्रमिकों स्ट्रीट बिल्डर्स अन्य श्रमिक रिक्शा चालक और निराश्रित वह ऐसा जरूरतमंद परिवारों जो कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना में कमल नहीं हो रहे हैं. उन्हें यह अनुग्रह राशि दी जाएगी. यदि किसी ऐसा यह निराश्रित परिवार का बैंक अकाउंट नहीं होगा. तो ऐसी स्थिति में उन्हें जिला कलेक्टर नगद भुगतान करेंगे. चयनित परिवारों के बैंक खातों में डीबीटी के माध्यम से एक ₹1000 जमा होंगे और इसके उनके मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से दी जाएगी.

Needy people will get 1000 rupees during lockdown जरूरतमंद लोगों को लॉकडाउन के दौरान 1000 रुपये

Needy people will get 1000 rupees during lockdown जरूरतमंद लोगों को लॉकडाउन के दौरान 1000 रुपये

Needy people will get 1000 rupees during lockdown जरूरतमंद लोगों को लॉकडाउन के दौरान 1000 रुपये

गहलोत ने यह निर्णय सोमवार को मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित उच्च स्तरीय बैठक के दौरान लिये. मुख्यमंत्री के इस फैसले का लाभ प्रदेश के 1 करोड़ 41 लाख परिवारों को मिलेगा. दो माह की पेंशन एक साथ मिलने से सामाजिक सुरक्षा पेंशन के लाभार्थियों के हाथ में एकमुश्त 1500 रूपये एवं इससे अधिक की राशि पहुंचेगी. यह राशि सीधे लाभार्थियों के बैंक खातों में जमा होगी.

राज्य सरकार पहले ही एनएफएसए के तहत कवर होने वाले परिवारो को मिलने वाला एक रूपये व दो रूपये प्रति किलो गेंहू मई माह तक निःशुल्क देने की घोषणा कर चुकी है. इन सभी के लिए करीब 2 हजार करोड़ का पैकेज बनाया गया है.

धन की कमी नहीं आने दी जाएगी, कोई व्यक्ति भूखा नहीं सोएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार संकट की इस घड़ी में धन और संसाधनों में किसी तरह की कमी नहीं आने देगी. लॉकडाउन के दौरान किसी जरूरतमंद को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े और कोई व्यक्ति भूखा नहीं सोए यह सुनिश्चित किया जाएगा.

जरूरतमंदाें तक पहुंचायेंगे खाना और राशन के पैकेट. गहलोत ने कहा कि स्वंयसेवी संस्थाओं, दानदाताओं एवं अन्य भामाशाहों के सहयोग से जरूरतमंदों तक खाना पहुंचाया जायेगा. जहां दानदाता या स्वयंसेवी संस्था उपलब्ध नहीं हो वहां जिला कलक्टर भी अनटाइड फंड की मदद से खाने का इंतजाम करेंगे. इसके अलावा राज्य सरकार ऎसे हर जरूरतमंद तक राशन के पैकेट भी पहुंचायेगी जो एनएफएसए की सूची में शामिल नहीं हैं. इसमें आटा, दाल, चावल, तेल आदि जरूरत की वस्तुएं शामिल होंगी. ये पैकेट शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के प्रत्येक सरकारी भवन, पुलिस थानों, तहसील, पंचायत भवन एवं पटवार भवन पर उपलब्ध करवाये जाएंगे. उन्होंने कहा कि इस कार्य में पटवारी एवं ग्रामसेवक की सहायता ली जाए, ताकि प्रदेश के हर जरूरतमंद तक मदद पहुंचाई जा सके.

सरकार ने बनाया वार रूम
सीएम गहलोत ने कहा कि लॉकडाउन की स्थिति में आमजन को होने वाली परेशानियों के समाधान के लिए एक ‘वार रूम‘ बनाया गया है, जो 24 घंटे संचालित होगा. राजस्थान संपर्क की हेल्पलाइन नम्बर 181 पर संपर्क किया जा सकेगा. प्रमुख सचिव, सूचना प्रौद्योगिकी अभय कुमार इस राज्य स्तरीय ‘वार रूम‘ के प्रभारी अधिकारी होंगे. 6 वरिष्ठ अधिकारी लगातार वाररूम में मौजूद रहेंगे. इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता और माॅनिटरिंग के लिए ‘हैल्थ वार रूम‘ भी संचालित होगा. जिसके लिए हेल्पलाइन नम्बर 108 और 104 पर संपर्क किया जा सकेगा, रोहित कुमार सिंह ‘हैल्थ वार रूम‘ के नोडल अधिकारी रहेंगे.
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार संकट की इस घड़ी में धन और संसाधनों में किसी तरह की कमी नहीं आने देगी. लॉकडाउन के दौरान किसी जरूरतमंद को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े और कोई व्यक्ति भूखा नहीं सोए यह सुनिश्चित किया जाएगा. बैठक में सीएस डीबी गुप्ता, एसीएस गृह राजीव स्वरूप, डीजीपी भूपेन्द्र सिंह सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे.

राजस्थान शैक्षिक समाचार

Raj. Patwari Whatsapp Group

REET 2019 Whatsapp Group

RPSC Update Group

Railway 2020 Group

Raj. Police WhatsApp Group

Raj. High Court Group D

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top